चलो कविता लिखें और मस्ती करें

"जब नहीं शब्द का ज्ञान मुझे, तो स्वागत वचन कहूँ कैसे, जब नहीं मानता मन मेरा, तो फिर खामोश रहूँ कैसे, इसलिए व्यर्थ शब्दों से ही खुद को अगात करता हूँ, नम्र ह्रदय से निज पन्ने पर आपका स्वागत करता हूँ..."

26 Posts

580 comments

Reader Blogs are not moderated, Jagran is not responsible for the views, opinions and content posted by the readers.
blogid : 9544 postid : 62

शिक्षक दिवस

Posted On: 5 Sep, 2012 में

  • SocialTwist Tell-a-Friend

इस मंच के सभी आदरणीय लेखकों कविओं और विचारकों को शिक्षक दिवस की हार्दिक शुभकामनायें. माँ से लेकर आज तक जितने भी लोगों से ज्ञान मिला सबका हार्दिक धन्यवाद, जिसमें आप लोग भी शामिल हैं क्योंकि आप लोगों से भी बहुत कुछ सीखने को मिला. कितना अच्छा होता है यदि आज “गुरु-दिवस” होता ? खैर लार्ड-मैकाले के पहले भारत में जिस तरह के गुरु हुआ करते थे, उनकी तरह अब भी हैं, परन्तु बहुत कम हैं, उन्ही गुरुओं के चरणों में समर्पित कुछ पंक्तियाँ-

किस्मत मुँह मोड़ ले, दुनियाँ भी छोड़ दे,

अंतर्मन दामन पर ज़ख्म कोई जोड़ दे,

जीवन के युद्धों को मन से मत हारना,

जिसने साथ छोड़ा है, उसको लौट आना है,

गुरुवर का मतलब ही जिंदगी बनाना है.

दीपों की माला हो, शब्दों की हाला हो,

गुरुवर के हाथों में विज्ञता का प्याला हो,

पीने की प्यास में पीकर मतवाला हो,

गुरुवर की महिमा को सबके संग गाना है,

गुरुवर का मतलब ही जिंदगी बनाना है.

गुरुवर से ज्ञान मिले, ज्ञान से सम्मान मिले,

हिन्दी अंग्रेजी मिले, गणित और विज्ञान मिले,

कोई आर्य भट्ट बने, अंकों के फूल खिले,

धरती से सूरज की दूरी समझाना है,

गुरुवर का मतलब ही जिंदगी बनाना है.

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (1 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

24 प्रतिक्रिया

  • SocialTwist Tell-a-Friend

Post a Comment

CAPTCHA Image
*

Reset

नवीनतम प्रतिक्रियाएंLatest Comments

    ashishgonda के द्वारा
    September 6, 2013

    “आदरणीय” के मुँह से “आदरणीय” सुनकर गर्वित भी हूँ और शर्म भी आ रही है….आपके आलेख का बड़ी बेसब्री से इंतजार रहता है जल्दी ही पहुँचता हूँ आभार. प्रणाम.

dineshaastik के द्वारा
September 12, 2012

प्रथम गुरु माँ है, वह हमें जीवन देने के साथ साथ जीने का ढ़ग भी सिखाती है। दुनियाँ क्या है कैसी है हमें यह हमारी माँ ही बताती है। माँ ज्ञान देने के कारण  गुरु और जीवन देने के कारण ईश्वर है। ऐसा ईश्वर एवं गुरु को शत शत नमन… 

    ashishgonda के द्वारा
    September 12, 2012

    आदरणीय! बिलकुल उचित और सराहनीय विचार व्यक्त करने के लिए आभार,,,,,इसीलिए मैंने ‘सच्चा ईश्वर’ और ‘सच्चा ईश्वर भाग-2′ कविता लिखी थी. निवेदन है ऐसे ही स्नेह बनाये रखियेगा……

Aniket mishra के द्वारा
September 11, 2012

बहुत बहुत सुन्दर

    ashishgonda के द्वारा
    September 11, 2012

    धन्यवाद मित्रवर!

Lahar के द्वारा
September 11, 2012

गुरु की महत्ता में लिखी गयी एक अच्छी कविता |

    ashishgonda के द्वारा
    September 11, 2012

    मित्र! प्रतिक्रिया के ह्रदय से आभार,,,,,,,

seemakanwal के द्वारा
September 9, 2012

आशीष बहुत सुन्दर रचना है बधाई .गलती से दिनेशजी का आप पर लिख गया .

    ashishgonda के द्वारा
    September 10, 2012

    आदरणीया! मेरे पन्ने पर आपका स्वागत है, आज पहली बार आपकी प्रतिक्रिया मिली मन खुश हुआ, ये तो बड़ी अच्छी बात है की आदरणीय दिनेश जी जैसे महान विचारकों के लेख पर प्रतिक्रया देते हुए इधर भी ध्यान दिया. ऐसे ही स्नेह बनाये रखियेगा. आपको पुनः आभार….

seemakanwal के द्वारा
September 9, 2012

आदरणीय दिनेश जी इतने सुन्दर लेख से परिचय करने का हार्दिक आभार .

    ashishgonda के द्वारा
    September 12, 2012

    कोई बात नहीं प्रतिक्रिया पढकर खुशी हुई, मेरे प्रतिक्रियाओं की संख्या सम रहे इसलिए यहाँ भी उत्तर दे रहा हूँ.

aman kumar के द्वारा
September 7, 2012

बहुत अच्छे !

    ashishgonda के द्वारा
    September 7, 2012

    धन्यवाद

September 6, 2012

गुरुवर का मतलब ही जिंदगी बनाना है………..सुन्दर और सशक्त विचार………………….

    ashishgonda के द्वारा
    September 6, 2012

    आदरणीय, सादर प्रणाम, आपकी प्रतिक्रिया पढकर बहुत खुशी हुई, उमींद है ऐसे ही स्नेह बनाये रखेंगे,,, धन्यवाद…

nishamittal के द्वारा
September 5, 2012

गुरुवर से ज्ञान मिले, ज्ञान से सम्मान मिले, हिन्दी अंग्रेजी मिले, गणित और विज्ञान मिले, कोई आर्य भट्ट बने, अंकों के फूल खिले, धरती से सूरज की दूरी समझाना है, गुरुवर का मतलब ही जिंदगी बनाना है.                           बहुत सुन्दर भाव आशीष शुभकामनाएं

    ashishgonda के द्वारा
    September 5, 2012

    प्रणाम माँ जी! आपके आशीष से मन हर्षित हुआ आभार,,,,

Himanshu Nirbhay के द्वारा
September 5, 2012

उत्तम गुरु गान….

    ashishgonda के द्वारा
    September 5, 2012

    प्रतिक्रिया के लिए धन्यवाद….

vikramjitsingh के द्वारा
September 5, 2012

गुरु की महिमा अपरम्पार है……सहमत…..

    ashishgonda के द्वारा
    September 5, 2012

    आदरणीय! सादर, प्रतिक्रिया के लिए ह्रदय से आभार…

    vikramjitsingh के द्वारा
    September 9, 2012

    प्रिय आशीष जी…. आपकी सूचना का इंतज़ार रहेगा……

    ashishgonda के द्वारा
    September 9, 2012

    जरूर सूचित करूँगा…..


topic of the week



latest from jagran